फिरोजपुर में फिर देखा गया पाकिस्तानी ड्राेन, रात में छतों पर चढ़ गए लोग



फिरोजपुर. फिरोजपुर के हुसैनीवाला बॉर्डर एरिया में मंगलवार रात फिर से पाकिस्तानी ड्रोन देखा गया। इस दौरान लोग संदिग्ध चीज को देखने के लिए छतों पर चढ़ गए। दरअसल, इससे पहले सोमवार रात को पांच बार पाकिस्तान की तरफ से भारतीय सीमा में ड्रोन उड़ाए जाने की सूचना थी। इसके बाद पुलिस और बीएसएफ की तरफ से इलाके में गहन सर्च ऑपरेशन चलाया। यह अलग बात है कि यहां से कुछ भी संदिग्ध चीज नहीं मिली है। बावजूद इसके लगातार दूसरे दिन ड्रोन की हलचल देखे जाने से इलाके में सहम का माहौल है।

मिली जानकारी के अनुसार रात 7 बजकर 20 मिनट पर सरहदी गांव हजारा सिंह वाला के पास पाकिस्तानी ड्रोन का उड़ते देखा गया। उधर रात 10 बजकर 10 मिनट पर गांव टेन्डी वाला के पास भी इसी तरह की हरकत हुई। गांव के लोगों में रात में इस तरह अचानक ड्रोन उड़ाए जाने को लेकर उत्सुकता भी थी कि यह क्या है, वहीं सहम का माहौल भी है। इस बारे में सेना के अधिकारियों और स्थानीय पुलिस को सूचित किया गया। इसके बाद से बुधवार दोपहर तक इलाके में सर्च ऑपरेशन जारी है।

इससे पहले सोमवार रात पाक ने सोमवार रात फिरोजपुर बॉर्डर पर 10:30 बजे से 12:25 बजे के बीच दो उलटी दिशाओं में 5 बार ड्रोन उड़ाया। इनमें से एक बार ड्रोन तस्करी के लिए बदनाम मल्लावाला क्षेत्र की बस्ती रामलाल के एरिया में करीब 1 किलोमीटर भारतीय सीमा में अंदर तक घुस कर वापस गया। एसपी हेड क्वार्टर जीएस चीमा ने कहा कि बीएसएफ ने रात को सूचना दी थी कि बॉर्डर एरिया में ड्रोन दिखा है। ड्रोन की ऊंचाई काफी ज्यादा थी और आवाज बिलकुल नहीं थी। इनका पता केवल आसमान में लाल लाइट ब्लिंक होने पर चला। इसके बाद बीएसएफ व सुरक्षा एजेंसियों अलर्ट हो गईं व तुरंत सीमा से सटे क्षेत्र में सर्च शुरू करवा दी गई। पुलिस ने रात साढ़े 10 बजे से लेकर सुबह साढ़े 4 बजे तक बीएसएफ के साथ मिलकर हुसैनीवाला, गट्‌टी राजोके, चांदी वाला आदि गांवों में सर्च अभियान चलाया। मंगलवार को भी जारी रहा पर कोई भी वस्तु या ड्रोन बरामद नहीं हुआ।

हो चुकी ड्रोन से नशे और हथियारों की सप्लाई

मल्लांवाला के तस्कर हेरोइन व हथियारों के साथ कई बार तरनतारन व अमृतसर में पकड़े भी गए हैं। जून में अमृतसर में पकड़े दो ग्रेनेड की डिलीवरी भी मल्लांवाला के तस्कर ने की थी, जो आज तक पुलिस के हाथ नहीं लग पाया। अगस्त व सितंबर में डेढ़ माह के अंतराल में 9 बार पाक से ड्रोन उड़ा प्रवेश करवाया गया व इसके जरिए दो बड़ी कंसाइनमेंट डिलीवर हुईं। पहली कंसाइनमेंट 13 अगस्त को खेमकरण सेक्टर से आई। इसके बाद अटारी सेक्टर के गांव राजोके से ड्रोन के जरिए कंसाइनमेंट आई।


ड्रोन की प्रतीकात्मक तस्वीर।
 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *