ट्विटर पर यूजर ने निर्मला सीतारमण को ‘स्वीटी’ कहा, वित्त मंत्री ने शालीनता से जवाब दिया; अन्य यूजर्स ने आपत्ति जताई

ट्विटर पर यूजर ने निर्मला सीतारमण को ‘स्वीटी’ कहा, वित्त मंत्री ने शालीनता से जवाब दिया; अन्य यूजर्स ने आपत्ति जताई

  • यूजर ने वित्त मंत्री पर स्वामी विवेकानंद के मशहूर कथन को गलत कोट करने का आरोप लगाया था
  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ट्वीट के जवाब में लिखा- खुशी है कि आप इसमें रुचि ले रहे हैं

नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को ट्विटर पर सोमवार को एक यूजर ने ‘स्वीटी’ कहकर संबोधित किया। इसका उन्होंने बड़ी ही शालीनता से जवाब दिया। यूजर ने वित्त मंत्री पर स्वामी विवेकानंद के मशहूर कथन को गलत कोट करने का आरोप लगाया।

सीतारमण ने स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनका कथन ट्वीट किया- उठो, जागो और ज्यादा सपने मत देखो। यह सपनों की भूमि है, जहां कर्म हमारे विचारों से निकलकर माला बुनते हैं। इस पोस्ट के बाद उन्होंने ‘द कंप्लीट वर्क्स ऑफ स्वामी विवेकानंद 4, पीपी 388-89’ लिखा।

इस ट्वीट के जवाब में सुजॉय घोष नाम के ट्विटर यूजर ने कहा कि वित्त मंत्री ने विवेकानंद का सही कथन नहीं लिखा है। निर्मला सीतारमण ने यह कथन कथा उपनिषद और स्वामी जी के कथा उपनिषद और ‘उठो जागो’ कथन से लिया है। यूजर ने लिखा- स्वीटी ‘ये अपने लक्ष्य तक पहुंचने तक नहीं रुको’ है न कि ‘ज्यादा सपने मत देखो’। यह 2020 का बजट नहीं है, जिस बारे में आप हमें चेतावनी दे रही हैं।

19वीं शताब्दी में विवेकानंद ने इस कथन को मशहूर किया

‘उठो, जागो और अपने लक्ष्य तक पहुंचने तक मत रुको’ एक नारा है, जो कथा उपनिषद के एक श्लोक से प्रेरित है। इसे 19वीं शताब्दी के अंत में विवेकानंद ने मशहूर किया था। सीतारमण ने ट्वीट के जवाब में लिखा- खुशी है कि आप इसमें रुचि ले रहे हैं। जहां तक कोट की बात है तो मैंने कहा है कि ये ‘द अवेकेन इंडिया’ से लिया गया है, जो अगस्त 1898 में लिखा गया था। कथन के नीचे मैंने इसके संदर्भ का हवाला भी दिया है। इसे अद्वैत आश्रम की ओर से प्रकाशित किया गया है।

‘स्वीटी’ शब्द के इस्तेमाल पर अन्य यूजर ने आपत्ति जताई

सीतारमण के इस जवाब की कई लोगों ने प्रशंसा की है। वहीं, कई लोगों ने घोष के ‘स्वीटी’ शब्द के इस्तेमाल की आलोचना की। सीतारमण 1 फरवरी को बजट पेश करने वाली हैं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *