punjab kabaddi team played tournament in pakistan with coach dvinder | बिना मंजूरी गए थे कबड्‌डी खेलने, विवाद का अंदेशा नहीं था वर्ना जाते ही नहीं, हर सवाल का जवाब दूंगा: कोच दविंदर

बिना मंजूरी गए थे कबड्‌डी खेलने, विवाद का अंदेशा नहीं था वर्ना जाते ही नहीं, हर सवाल का जवाब दूंगा: कोच दविंदर

  • वर्ल्ड कबड्डी चैंपियनशिप खेलने पाकिस्तान गई पंजाब की टीम अटारी बॉर्डर के रास्ते वतन लौटी
  • पाकिस्तान की मेजबानी में 9 से 17 फरवरी तक वर्ल्ड कबड्डी चैंपियनशिप किया गया था

अमृतसर. पाकिस्तान वर्ल्ड कबड्डी चैंपियनशिप के लिए सरकार और भारतीय कबड्डी महासंघ की बिना मंजूरी के पाकिस्तान गई पंजाब की कबड्डी टीम सोमवार को अटारी बार्डर के जरिए वतन लौट आई। पाकिस्तान जाने को लेकर उपजे विवाद पर कोच दविंदर सिंह ने कहा कि वह भारत की तरफ से नहीं गए थे। वह सरकार तथा संघ के हरेक सवाल का जवाब देने को तैयार हैं।

पाकिस्तान की मेजबानी में 9 से 17 फरवरी तक वर्ल्ड कबड्डी चैंपियनशिप का आयोजन किया गया था और उसी में हिस्सा लेने विभिन्न क्लबों के 45 खिलाड़ी और 12 अधिकारी शामिल थे। यह लोग बिना किसी आधिकारिक मंजूरी के 8 फरवरी को अटारी-वाघा के रास्ते पाकिस्तान गए थे। खास बात तो यह रही कि टीम ने चैंपियनशिप में शिरकत करने के लिए न तो केंद्रीय खेल मंत्रालाय, न ही विदेश मंत्रालय और ना ही कबड्डी महासंघ से इजाजत ली।
कहा- पता होता, विवाद होगा तो पाक जाते ही नहीं
टीम के पाक पहुंचते ही इस मामले को लेकर देश में विवाद हो गया। खैर, वापसी पर लौटे कोच दविंदर सिंह ने स्पष्ट किया कि वह देश की तरफ से नहीं गए थे यानी कि निजी तौर पर गए थे। उन्होंने बताया कि पाकिस्तान ने श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के संदर्भ में उक्त चैंपियनशिप आयोजित की थी और उसमें हिस्सा लेने के लिए उनको उधर से न्यौता मिला था। उन्होंने बताया कि अगर उनको पता होता कि इतना विवाद हो जाएगा तो जाते ही नहीं। फिलहाल उनका कहना है कि वह हर जवाब देने को तैयार हैं।

टूर्नामेंट में भारत को मिला है दूसरा स्थान

कबड्डी टीम के साथ गए अन्य पदाधिकारियों का कहना है कि वहां हुए टूर्नामेंट में भारत के खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन किया और इस टूर्नामेंट में पाकिस्तान को पहला जबकि भारत को दूसरा स्थान मिला। यह एक प्राइज वाला टूर्नामेंट था। इसमें मेडल वाली कोई बात नहीं थी। इसलिए उन्होंने फेडरेशन के नाम का वहां इस्तेमाल नहीं किया।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *